kya Bharosa Hai Is Zindagi Ka Harmonium Tutorial by Sur Sangam

kya Bharosa Hai Is Zindagi Ka Harmonium Tutorial by Sur Sangam

 

Prev 1 of 1 Next
Prev 1 of 1 Next

क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का
साथ देती नहीं यह किसी का

सांस रुक जाएगी चलते चलते,
शमा बुज जाएगी जलते जलते ।
दम निकल जायेगा रौशनी का ॥
क्या भरोसा है…

हम रहे ना मोहोबत रहेगी,
दास्ताँ अपनी दुनिया कहेगी ।
नाम रह जाएगा आदमी का ॥
क्या भरोसा है…

दुनिया है इक हकीकत पुरानी,
चलते रहना है उसकी रवानी ।
फर्ज पूरा करो बंदगी का ॥
क्या भरोसा है…

Leave a Reply

five × five =

Close Menu